Ramadan/Ramzan Timing:रमजान की सहरी और इफ्तार पूरा टाइम टेबल यहां देखें

409
Ramadan/Ramzan Timing:रमजान की सहरी और इफ्तार पूरा टाइम टेबल यहां देखें

Ramzan Timing

Sehri And Iftar Time Table 2020: रमजान का पाक महीना चल रहा है apko Ramadan ramzan timing रमजान के महीने में अल्लाह ताला इबादत को पसंद फरमाता है और नफिल का सवाब फर्ज के बराबर कर देता है और फ्रिज का सवाब 70 गुना बढ़ा दिया जाता है उसी तरह एक नेकी का 10 लड़कियों के बराबर सवाब दिया जाता है और 1 गुना का भी 10 गुना अज़ाब मिलता है हमें रमजान में हर एक कदम फूंक-फूंक कर रखना चाहिए ना जाने कौन से फल हमसे गुनाह हो जाए और हमारे गुना इतने ज्यादा बढ़ जाए कि हम उसका आजाब से भी न सके क्योंकि रमजान में जिस तरह नेकियां बढ़ा दी जाती हैं

उसी तरह गलती भी बढ़ा दी 1 गुना का 10 गुना आज आप भी मिलता है लेकिन क्योंकि हम मोहम्मद सल्लल्लाहो ताला अलेही वसल्लम के हां सुमति हैं उम्मती हैं इसलिए अल्लाह हम पर ज्यादा शकत और मोहब्बत की नजर रखता है और अपने महबूब मोहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहो ताला अलेही वसल्लम के सदके हमें माफ फरमाता है हमें चाहिए के हम इस महीने का ज्यादा से ज्यादा एहतराम करें और लोगों के साथ सिला रहमी क सुलूक करें !

रमजान के महीने में नेकी के काम में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने वाले बन जाए और बुराई से बचते रहे वैसे तो पूरी साल हमें गुनाहों से बचना चाहिए और तोबा करना चाहिए लेकिन रमजान अल्लाह का महीना है और अल्लाह ने इसमें अपनी रहमत के दरवाजे हुजूर सल्लल्लाहो ताला अलेही वसल्लम की उम्मत के लिए और ज्यादा खोल दिए होते हैं इसलिए हमें इस महीने का एहतराम ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए और फायदे उठा लेने चाहिए जन्नत की तैयारी कर लेनी चाहिए इन तैयारियों में सबसे बेहतर है नमाज तरावी रोजा सदका और जकात

Ramdan Wishes 2020: Ramadan Mubarak. Shayari In Hindi

 

दुरूद शरीफ की फजीलत||सबसे छोटा दरूद शरीफ|| दरूद शरीफ दुआ हिंदी

रमजान का पाक महीना बड़ा बरकत वाला है इस महीने में सुबह सवेरे से रोजे की शुरुआत होती है और शाम को इफ्तार से रोजा मुकम्मल किया जाता है 31 अप्रैल को रोजा खोलने का सही टाइम क्या है वह नीचे टाइम टेबल में देख लीजिएगा हमने पूरे महीने का टाइम टेबल दे रखा है

Ramadan\ ramzan timing compitly

Ramzan [रमजान का पाक महीना चल रहा है कभी नहीं सोचा था कि इस महीने में ऐसे दिन भी देखने को मिलेंगे जब मस्जिदों में नमाज पढ़ना बंद हो जाएगा सिर्फ मौलाना ही नमाज अदा कर रहे होंगे रोजे के समय वह दस्तरख्वान नहीं सच पाएंगे जो हमेशा सजा करते थे वैसे तो अल्लाह ने जिन्हें आता किया है वह इस वक्त में भी अच्छा अच्छा स्टार अच्छी-अच्छी नेमतों से रोजा इफ्तार कर रहे हैं लेकिन जिनके पास नहीं है और वह गुरबत से बेहाल हैं उनके बहुत बुरे हाल हैं अल्लाह ही वह उनका एक सबब वही उनकी मदद करेगा कोरोनावायरस में तमाम दुनिया को अपनी चपेट में ले रखा है !

Ramadan ramzan timing
Ramadan ramzan timing

यह वायरस एक ऐसा आजा बन कर आया है जिसकी वजह से लोग अपने घरों में कैद हो गए हैं और पहली बार मस्जिदे वीरान पड़ी है लोग मस्जिदों को आबाद नहीं कर पा रहे हैं सरकार ने भी अपने घरों में रहकर ही इबादत करने का हुक्म दिया है जो भी बाहर निकलने की कोशिश करता है उसे पुलिस मारती है गिरफ्तार कर लेती है यह अल्लाह का कैसा आजाद है या फिर अल्लाह की आजमाईश है या फिर हमें किसी बड़े खतरे से बचाने के लिए हमारे परवरदिगार ने कोरोनावायरस को भेज दिया है क्योंकि अल्लाह की हर बात में कुछ न कुछ बात छुपी होती है वह कभी अपने बंदों का नुकसान नहीं करता !

रमजान की तारीफ|| रमजान 2019|| रमजान मुबारक

 

Itikaf|| इतिकाफ की दुआ हिंदी|| इंग्लिश|| उर्दू|| इतिकाफ का तरीका ||itikaf 2019 ||रमजान ||शहरी

 

Ramadan/Ramzan Timing:रमजान की सहरी और इफ्तार पूरा टाइम टेबल यहां देखें
Ramadan ramzan timing

कोरोना वायरस के पीछे भी कोई खास वजह होगी जो यह दुनिया पर आया है अल्लाह के राज अल्लाह ही जाने हमें कभी भी अल्लाह की कुदरत में दखल देकर यह नहीं कहना चाहिए कि हाय अल्लाह यह अदा क्यों आया या फिर यह बीमारी क्यों आई क्योंकि बीमारियां जब आती है तो हमारे गुनाहों को झाड़ देती हैं जिस तरह पेड़ से सूखे पत्ते झड़ जाते हैं तो हमें हमेशा यही सोचना चाहिए कि अल्लाह जो करता है बेहतर करता है और रमजान को खुशहाल तरीके से हो जाना चाहिए एक बादल ज्यादा से ज्यादा हो लोगों से मोहब्बत हो जितना हो सके अपने पड़ोसियों की मदद करें रिश्तेदारों की मदद करें अगर पैसा नहीं तो उनका कोई काम ही कर दिया करें रमजान महीना है सब्र का सखावत का दिलदारी का मोहब्बत का मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना हम इस्लाम के मानने वाले हैं और इस्लाम हमेशा मोहब्बत का पैगाम देता है और रमजान हमेशा सब्र और सखावत का पैगाम देता है तो सब्र और सखावत के साथ डटे रहिए और यह रमजान इबादत में गुजार दीजिए अल्लाह ने चाहा तो बहुत जल्दी यह मुसीबत भी टल जाएगी इंशा अल्लाह

03 मई 2020 – 04:12 AM – 6:59 PM

RAMADAN CALENDAR 2020 – NEW DELHI

सेहरी और इफ्तार टाइम (Sehri And Iftar Time):
रमजान             सेहरी          इफ्तार

30 अप्रैल 2020 – 04:15 AM – 6:57 PM
01 मई 2020 – 04:14 AM – 6:58 PM
02 मई 2020 – 04:13 AM – 6:58 PM
03 मई 2020 – 04:12 AM – 6:59 PM
04 मई 2020 – 04:11 AM – 6:59 PM
05 मई 2020 – 04:10 AM – 7:00 PM
06 मई 2020 – 04:09 AM – 7:01 PM
07 मई 2020 – 04:08 AM – 7:01 PM
08 मई 2020 – 04:07 AM – 7:02 PM
09 मई 2020 – 04:06 AM – 7:02 PM
10 मई 2020 – 04:05 AM – 7:03 PM
11 मई 2020 – 04:04 AM – 7:04 PM
12 मई 2020 – 04:03 AM – 7:04 PM
13 मई 2020 – 04:02 AM – 7:05 PM
14 मई 2020 – 04:01 AM – 7:05 PM
15 मई 2020 – 04:01 AM – 7:06 PM
16 मई 2020 – 04:00 AM – 7:07 PM
17 मई 2020 – 03:59 AM – 7:07 PM
18 मई 2020 – 03:58 AM – 7:08 PM
19 मई 2020 – 03:58 AM – 7:08 PM
20 मई 2020 – 03:57 AM – 7:09 PM
21 मई 2020 – 03:56 AM – 7:10 PM
22 मई 2020 – 03:55 AM – 7:10 PM
23 मई 2020 – 03:55 AM – 7:11 PM

Ramadan 2020 Sehri & Iftar Time: रमजान के दौरान खुदा की इबादत करते हुए बुराइयों से दूर रहकर नेकी की राह दिखाते हैं रोजेदार

 

रमजान में रोजा खुलवाने के फायदे

रमजान में अगर किसी शख्स का रोजा कोई खुलवा दें उसको इतना सवाब मिलता है कितना वह अपना ख्याल में सोच भी नहीं सकता वह रोजा बहुत सारे खाने से हो या एक खजूर से हो या फिर एक गिलास पानी या फिर एक घूंट पानी से ही चुना है सिर्फ रोजा इफ्तार करवाने का भी बेहद सवाल है तो जब भी मौका मिले किसी रोजेदार का रोजा खुलवा दिया करो क्या पता कौन सी ने की कब काम आ जाए

Ramadan/Ramzan Timing:रमजान की सहरी और इफ्तार पूरा टाइम टेबल यहां देखें
Ramadan ramzan timing

रमजान के मुकद्दस महीने में ज्यादा से ज्यादा समय इबादत में गुजारा जाता है। कुरान की तिलावत, नमाज की पाबंदी, जकात, सदाक और अल्‍लाह का जिक्र करते हुए इबादत की जाती है। कहा जाता है कि इस पाक महीने में नेक काम करने और इफ्तार कराने से सवाब बढ़ता है।  रमजान के महीने में रोजेदार गलत कामों से दूर रहता है।रोजे में मगरीब की नमाज अदा करने के बाद इफ्तार किया जाता है और सबसे पहले पर्याप्त पानी पीकर शरीर में दिनभर के पानी की कमी को दूर करें। इफ्तार के लिए यानी रोजा खोलने के लिए खजूर को बेहतर माना जाता है।

रोजे का मतलब सिर्फ भूखे-प्यासे रहना ही नहीं है, बल्कि आंख, कान और जीभ का भी रोज़ा रखा जाता है। जिसका मतलब होता है न बुरा देखें, न बुरा सुनें और न ही बुरा कहें। रमजान के महीने में कुरान पढ़ने का भी अलग ही महत्व होता है। ऐसी मान्यता है कि इस महीने की गई इबादत का फल बाकी महीनों के मुकाबले 70 गुना अधिक मिलता है। रमजान में रात के वक्त एक विशेष नमाज भी पढ़ी जाती है, जिसे तरावीह कहते हैं।

Ramzan 2019 ||Ramzan kab hai ||Ramzan calendar

रमजान में अपने रोजे की हिफाजत करें और झूठ बदीय गई व चुगली से बचें दयानंद आर बने देने वाले बने और हो सके तो किसी की मदद कर दिया करें और मदद के लायक ना हो तो उन्हें हुनर से लोगों की मदद कर दिया करो वह भी ना हो सके तो रास्ते का पत्थर ही हटा दिया करें क्योंकि यह भी एक नहीं की और सदका है बच्चों से बहुत ज्यादा मोहब्बत और बूढ़ों से मोहब्बत का इजहार किया करें वाले दान की फरमा बरदारी करें और उनसे मोहब्बत करें वाले दहन वाले ध्यान से मोहब्बत करना अल्लाह को बहुत पसंद है और हमारी नीतियों में इजाफा बहुत तेजी से होता है

अगर हम अपने मां बाप से मोहब्बत करते हैं यहां तक कि अगर हम अपने मां बाप को मुस्कुरा कर देखते हैं तो ही उनको देखने की वजह से ही हमें ने क्यों का जवाब मिल जाता है हज और उमरे का खफा मिल जाता है घर में ही हमारे जन्नत है बस हमें समझ नहीं आता इस रमजान में देखें कि घर में रहकर हमारे मां कितना काम करती है और ऐसा करें कि हमें पता भी नहीं होने देते अपनी मां का हाथ बताएं अगर आप लड़का ही क्यों ना हो मां का दिल बहुत बड़ा होता है आपकी मदद करने से वह अपने इतने सालों की मेहनत भूल जाएगी और इस मदद को हमेशा याद रखेंगे और आपको बेशुमार दुआएं देंगी

रमजान की तारीख में चंद बातें ही लिख पाएंगे क्योंकि रमजान एक ऐसा महीना है जिसके बारे में जितना भी लिखो वह कम है और कलम थक जाएगा लेकिन रमजान की तारीख में खत्म नहीं होंगी अगर आपको यह पोस्ट ,Ramadan/Ramzan Timing:रमजान की सहरी और इफ्तार पूरा टाइम टेबल यहां देखें पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और सोशल मीडिया पर मैं शेयर करें लाइक करें अल्लाह हाफिज दुआ में याद रखिएगा नेक्स्ट पोस्ट मिलते हैं इंशाल्लाह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here