When is eid 2020 india? What is the date of Ramzan Eid or Eid ul-Fitr

533
When is eid 2020 india? What is the date of Ramzan Eid or Eid ul-Fitr 2020?

When is eid 2020 India?

When is eid 2020 india?– Eid-al-Fitr, Eid-ul-Fitr, Eid-ul-Fitr, Eid ya Eid 2020इसे किसी भी तरह से पुकारे – इस्लामिक कैलेंडर के 10 वें महीने शव्वाल का पहला दिन है। यह रमजान या रमजान के अंत का प्रतीक है, जो हर धर्मनिष्ठ मुस्लिम के लिए उपवास और प्रार्थना का महीना है।ईद ऐ-फ़ित्र दिवस पर, musalman इबादत [प्राथना ] सत्र में भाग लेते हैं (कई बार सैकड़ों या हजारों लोगों के साथ), एक खुतबा (उपदेश) सुनते हैं और जकात अल-फ़ित्र (भोजन के रूप में दान) के अलावा घर पर कपड़े पहनकर जश्न मनाते हैं ईद के मौज-मस्ती और खुशी को साझा करने के लिए परिवार और दोस्तों के साथ स्वादिष्ट भोजन पर जोर देते हैं।लेकिन एक पकड़ है। त्योहार की पूर्व संध्या तक कोई भी निश्चित रूप से नहीं कह सकता है कि क्या यह होगा

Eid is not on a fixed date of the Gregorian calendar

जैसे-जैसे रमज़ान के इस्लामी पवित्र महीने की समाप्ति होती है, दुनिया के 1.8 बिलियन मुसलमानों में से कई स्पष्ट आसमान की उम्मीद करते हैं। यह चंद्रमा के पतले वर्धमान का दर्शन है जो इस बात का संकेत होगा कि यह उनके सबसे अच्छे कपड़े बाहर निकालने और दावत शुरू करने का समय है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस्लाम चंद्र कैलेंडर का अनुसरण करता है जैसा कि हिंदू करते हैं और यह कैलेंडर सौर ग्रेगोरियन कैलेंडर के साथ तारीख-दर-तारीख सिंक्रनाइज़ नहीं किया जाता है जो दुनिया का अनुसरण करता है।

 

ऐसा इसलिए है क्योंकि सौर दिन लंबा है, चंद्रमा के चरण पर गिना जाने वाला दिन छोटा है। इसलिए चंद्रमा के कैलेंडर की वैक्सिंग और वानिंग चरणों के आधार पर छोटे दिन, छोटे महीने होते हैं। उप-महाद्वीप में ‘अंग्रेजी’ कैलेंडर के साथ सिंक्रनाइज़ेशन कहेंगे – बंद है। यह महत्वपूर्ण और महत्वपूर्ण है क्योंकि इसका बड़ा प्रभाव है कि लोग साल-दर-साल रमजान का अनुभव कैसे करते हैं।

eid ul fitr kab hai

ईद का त्यौहार शव्वाल के 10 वें महीने के पहले दिन होता है, इस प्रकार रमजान के पवित्र महीने के अंत और इसके उपवास का संकेत मिलता है। लेकिन इस्लाम के भीतर, शव्वाल शुरू होने पर बहस होती है। कई देश इस अस्पष्टता का समाधान अपने मुसलमानों को आधिकारिक तौर पर अमावस्या को देखने की खबरों पर भरोसा करने के लिए करते हैं। दूसरों में, लोग केवल स्वयं को देखने और व्यक्तिगत रूप से आकाश में एक अर्धचंद्र चंद्रमा को देखने के बाद ही दृष्टि को पूर्ण मानते हैं। अभी भी अन्य लोग हैं जो नए चंद्रमा के आगमन की घोषणा करने के लिए खगोलीय टिप्पणियों का उपयोग करते हैं।

When is eid 2020 india? What is the date of Ramzan Eid or Eid ul-Fitr 2020?
When is eid 2020 india? What is the date of Ramzan Eid or Eid ul-Fitr

ye bhi padhe

Ramdan Wishes 2020: Ramadan Mubarak. Shayari In Hindi

Eid 2020:why Eid ul Adha is celebrated.eid history

When is Eid ul-Fitr 2020 in India?

भारत में ईद उल-फ़ित्र तारीख की घोषणा धार्मिक अधिकारी कब करेंगे, यह फिलहाल किसी को नहीं पता है। रमजान का महीना 23 अप्रैल 2020 से शुरू हुआ और संभवतः 23 मई 2020 को समाप्त हो जाएगा। धार्मिक अधिकारी शनिवार 23 मई 2020 की शाम को आसमान की ओर टकटकी लगाए रहेंगे। अगर उस रात चांद देखा जाता है, तो ईद अल-फितर 2020 रविवार 24 मई 2020 को होगा। यदि नहीं, तो रमजान ईद 25 मई 2020, सोमवार को मनाया जाएगा।

भारत में बैंक 25 मई को ईद के दिन राष्ट्रीय अवकाश के रूप में बंद रहेंगे। इसकी आबादी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा मुस्लिम होने के साथ, भारत ईद को एक प्रमुख राष्ट्रीय त्योहार के रूप में देखता है

When is Eid2013,2014,2015,2016,2017,2018,2019,

2020,2021,2022,2023,2024,2025,2026,2027  se 2033 tak ka data.

year

2013

Eid_alfitr

August 8

Eid-al-Adha

October 15

2014July 29October 5
2015July 17September 24
2016July 7September 10
2017June 25August 31
2018June 15August 22
2019June 5August 12
2020May 24July 31
2021May 13July 20
2022May 3July 10
2023April 22June 29
2024April 10June 17
2025March 31June 7
2026March 20May 27
2027March 10May 17
2028February 27May 5
2029February 15April 24
2030February 5April 14
2031January 25April 3
2032January 14March 22
2033January 3March 12

 

Eid is not just a name for wearing a light veneer(ईद सिर्फ उजले लिबास पहनने का नाम नहीं )

प्यारे इस्लामी भाइयों देखा आपने गुलिस्ता दोनों का नाम ही ईद नहीं है रंग बिरंगी कपड़े पहनने बगैर भी ईद मनाई जा सकती है हजरत ए स योजना उमर बिन अब्दुल अजीज किस कदर गरीब मिस्कीन खलीफा थे इतनी बड़ी सल्तनत के हकीम होने के बावजूद आपने कोई रखना जमाना की थी आप के खजाने भी किस कदर दयानंद आर थे उन्होंने कैसे खूबसूरत अंदाज से पेश की तन्हा देने से इनकार कर दिया इस शिकायत से हम सब को भी इव्रत हासिल करनी चाहिए और पेशगी तन्हा या   उजरत लेने से पहले खूब अच्छी तरह और कर लेना चाहिए कि कहीं ऐसा ना हो कि पेशगी ली हुई तनख्वाह या  उजरत का हक अदा कर सकें पहले ही मौत आ जाए और हमारे सर पर दुनिया भी माल का बवाल रह जाए खुदा ना खाता आखिरत में हम फंस जाएं.

 

Eid of Huzoor Gose Azam Razi Allah Tala Anha( हुजूर गौसे आजम रजि अल्लाह ताला अन्हा की ईद)

अल्लाह के मकबूल बंधुओं की एक एक अदा हमारे लिए मोदी बेहद दर्शी व्रत होती है देखिए हमारे हुजूर सैयदना गोसे आजम रजि अल्लाह ताला अन्हा की शान कितनी जबरदस्त और आला है लेकिन बावजूद इतनी बड़ी शान होने के हमारे लिए आप क्या चीज पर फरमाते हैं पढ़िए और व्रत हासिल कीजिए चुना से आपने अपनी एक रुबाई में एहसास फरमाया है.

लोग कह रहे हैं कल ईद है कल ईद है और सब खुश हैं लेकिन मैं तो जिस दिन इस दुनिया से अपना ईमान महफूज लेकर गया मेरे लिए तो वही दिन ईद का होगा क्या शान ए तक्वा है इतनी बड़ी शान है कि औलिया इकराम के सरदार और इस कदर तवा जो इन इन के सारे यह सब कुछ दरअसल हमारे  दरअसल  लिए है और हमें बताना मकसूद है कि खबरदार ईमान के मामले में गलत ना करना हर वक्त ईमान की इबादत की फिक्र में लगे रहना सर कहीं ऐसा ना हो कि तुम्हारी गफलत और मत सब ईमान की दौलत तुम्हारे हाथ से निकल जाए.

एक  वर्ली की ईद

हजरत ए सैयदना  शेख निजामुद्दीन   निजामुद्दीन mutawakkil हजरत बाबा शहर फरीदुद्दीन गंजे शकर रजि अल्लाह ताला अनहो के भाई और खलीफा है उनका lakab mutawakkilहै 70 बरस शहर में रहे मगर कोई जाहिरी जरिया मोहास ना होने के  बाबूजूद इनके याल अत फल निहायत इत्मीनान से जिंदगी बसर करते रहे और यह मौला की याद में इस कदर मुस्तक गिर रहते थे कि यह भी नहीं जानते थे कि आज कौन सा दिन है और यह कौन सा महीना है और यह  सिक्का कितनी मलीयत का है.

एक दफा ईद के दिन आपके घर में बहुत से मेहमान जमा हो गए इत्तेफाक से उस रोज आपके घर में खुर्द नोज का कोई सामान नहीं था आप बाला खाने पर जाकर यादें इलाही में मशगूल हो गए हैं और आपने दिल में यह कहते थे कि अल्लाह आज ईद का दिन है और मेरे बच्चे और मेहमान भूखे हैं इस तरह दिल ही दिल में यह कह रहे थे की अचानक कहीं से एक शख्स छत पर आ गया और उसने खानों से भरा हुआ  एक khuaan और कहां की ए निजामुद्दीन तुम्हारे तबक  कुल की धूम  मालाएं आल्हा में मची हुई है और तुम्हारा यह हाल है कि तुम ऐसे यानी खाना तलब करने के लिए ख्याल में मशगूल हो आपने फरमाया की हक ताला खूब जानता है की मैं ने अपनी जात के लिए  यह ख्याल नहीं किया.

When is eid 2020 india? What is the date of Ramzan Eid or Eid ul-Fitr 2020?
When is eid 2020 india? What is the date of Ramzan Eid or Eid ul-Fitr

बल्के आपने मेहमानों के लिए इस ख्याल की तरफ मतलब जहां हो गया था हजरत शायद  ना  नजीब mutabk kil बाबू  जूद अपनी इस करामत बुजुर्ग ई के  इंतेहा ई मुनक सिरुल मिजाज  मुंह तब जया थे आप की तवज्जो और इनकी सारी का यह आलम था कि एक रोज एक फकीरबहुत दूर से आपकी मुलाकात के लिए आया और आपसे पूछा कि क्या  नजीमुद्दीन  मत बकल यानी तबक कुल करने वाला आप ही हैं आपने इनकी  सा रन फरमाया कि भाई मैं तो नजीमुद्दीन  मत अ किल यानी बहुत ज्यादा खाने वाला हूं .

 

दरूद शरीफ की फजीलत हिंदी||दरूद शरीफ दुआ हिंदी

दुरूद ए ताज हिंदी में|| दुरूद ए ताज अरबी में|| Darood e Taj in English translation

करामत का एक शो आ बा 

 प्यारे इस्लामी भाइयों देखा आपने अल्लाह के नेक बंदे और वलियों की ईद किस कदर सदा हुआ करती है इस शिकायत से यह भी मालूम हुआ कि अल्लाह अपने वलियों और दोस्तों की जरूरी अत को उनके मांगने से पहले अता फरमा देता है कि यह सब उसके कर्म के करिश्मा हैं जिसको चाहता है उसको अपनी रहमत से नवाज देता है ओ प्यारे इस्लामी भाइयों को वक्त जरूरत बिल्कुल अचानक खाना पानी वगैरह जरूर जाते जिंदगी का  हाजिर हो जानायह बहुत सारे बुजुर्गों की करामत के तौर पर बकवा में आया है  चुना छे  शहरे अकाई दे  नस fhiya में जहां करामतकी चंद मिस आलो का बयान है बयान है वहां यह बी मशहूर है की वक्त जरूरत खाना पानी का हाजिर हो जाना यह भी करामत ही का एक शोभा है बुजुर्ग आने दिन के  khuddad tarrruf atकरामत का क्या कहना यह ऐसे मकबूल आने बार गायब खुदा बंदी होते हैं कि उनकी  ज बाने पार्क से निकली हुई बात और दिल में पैदा होने वाली ख्वाहिश पूरी होकर रहती है 

एक सखी की ईद 

सैयदना अबू अमर अब्दुल रहमान बिन  अमरेली आ जा बयान करते हैं की ईद उल फितर की शब् अपने घर में बैठा हुआ था कि किसी शक ने मेरे दरवाजे पर दस्तक दी मैं बाहर आया तो देखा कि मेरा हमसाया खड़ा है मैंने कहा कहो भाई कैसे आना हुआ उसने कहा कल ईद है लेकिन मेरे घर में ख्वाब उड़ रही है और खर्च के लिए एक पैसा तक नहीं है अगर आप कुछ इनायत फरमा दे तो इज्जत आबरू के साथ हम ईद का दिन गुजार लेंगे मैंने  ईद के मस रिफ के लिए 25 धर्म जमा कर रखे थे फौरन ही अपनी बीवी से कहा कि हमारा पूरा हमसाया निहाद गरीब है उसके पास ईद के दिन खर्च करने के लिए एक पैसा तक नहीं अगर तुम्हा  राय हो तो 25 dirhum हमने ईद शरीफ के लिए छोड़े हैं.

 वह हमसाए को दे दे हमें अल्लाह ताला और देगा नेक बीवी ने कहा बहुत अच्छा च नाचे मैंने वह सब dirhum अपने हमसाए के हवाले कर दिए और बहुत दुआएं देता हुआ चला गया थोड़ी देर के बाद मेरा दरवाजा फिर किसी ने खटखटाया मैंने दरवाजा खोला तो एक नव जवान मकान में दाखिल होकर मेरे कदमों पर गिरा पड़ा और रोने लगा मैंने कहा खुदा के बंदे तुझे क्या हुआ है और तू कौन है उस नवजात ने जवाब दिया कि मैं आपके वालिद का गुलाम हूं और सा हुआ भाग गया था अब मुझे अपनी हरकत पर बहुत नदा  लाइक हुई यह 25 दिन आ मेरी कमाई के हैं आपकी खिदमत में पेश करता हूं कुबूल फरमा कर मुझे ममनूर फरमाइए .

आप मेरे आका है मैं आपका गुलाम मैंने वह दीनार लिए और गुलाम को आजाद कर दिया मैंने अपनी बीवी से कहा कि खुदा की शान देखो उसने हमें धर्म के बदले दीनार अता फरमाए   सलाम उस पर की जिसने बेकसो की दस्तगिरी की प्यारे इस्लामी भाइयों देखा आपने अल्लाह की शान भी कितनी निराली है कि उसने 25 धर्म देने वाले को आन की आन 25 दिनार सोने के सिक्के आता फरमाए दिए बुजुर्गों ने दिन का हिसार भी खूब था कि अपनी तमाम तरह  आसाई शो कि दूसरे मुसलमानों की खातिर कुर्बान कर देते थे.

उन्हें अल्लाह और उसके प्यारे हबीब से बलियाना  मोहब्बत थी उन्हें मालूम था कि इस्लाम में आलमगीर हमदर्दी का पैगाम लेकर आया है हमारे हुजूर सराफा नूर   फैजी कुंजर रहमते आलम है आप गुरबा मसा  कीन और यतीम ओं की तरफ नजर खासकर रखते और हर तरह उनकी दिल  जोई फरमाया करते थे सलाम उस पर के जिसने बेकसो की दस्तगिरी की  सलाम उस पर के जिसने बादशाही में फकीरी की इतनी बड़ी शान की बात आज खुदा बुजुर्ग तू ही किस्सा मुक्तसर और इस कदर तवज्जो कि जिस का कोई नहीं उसके हुजूर हैं क्या खूब फरमाया मेरे आका अल्लाह हजरत ने कंजर बेकस नवाब पर दुरूद हे जेहर रफ्ता ताकत पर लाखों सलाम मुझसे बेकस की दौलत पर लाखों दरूद मुझसे बेबस कुब्बत पर लाखों सलाम  khlk कल के दाद रस्सब के फरियाद रस कोफ्ते रोजे मुसीबत पर लाखों सलाम.

गरीबों की भी खबरदारी करो 

प्यारा भाइयों इसी खुशी के दिन यानी रोजा ईद में हमारे प्यारे आका ने हमें गुरबा मसकीन का ख्याल रखने की भी तालीम दी और गरीबों व yateemo और मशीनों को भी इस खुशी में शरीक करने के लिए सदका फितर का हुक्म दिया ताकि वह नादान और सरफराज जो अपनी नादानी के वाइस इस वजह से ईद की खुशी नहीं मना सकते वह भी खुशी मना सकें .

When is eid 2020 India is post me humne kuch hadis likhi hai ap unko padhe or samjhkar amal kare take allah apse razi hojae ,When is eid 2020 India ye topik log zada serch kar rahe h isliye humne ise 2 part me likha hai is post ko padhne se phale apko ye wali post padhni hogi tabhi ap poori baat samajh paenge.

 

इस पोस्ट,When is eid 2020 india? What is the date of Ramzan Eid or Eid ul-Fitr 2020? को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें और इन हदीस को पढ़कर अमल करने की भी कोशिश करें क्योंकि किसी भी आदेश को पढ़कर पर अमल करना जरूरी है अल्लाह अमल करने वालों को पसंद करता है कुछ भी गलती हो तो माफ करना और कमेंट में बताना आपकी कमेंट हमारे लिए महत्वपूर्ण है 

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here